नरेंद्र मोदी पर निबंध

Narendra Modi Essay in Hindi नरेंद्र मोदी 2014 में भारत के 14वें प्रधानमंत्री बने और वह भारत के प्रधानमंत्री बनने से पूर्व गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री थे| वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता है| नरेंद्र मोदी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के एक सदस्य भी है। नरेंद्र मोदी के उपर निचे हमने एस्से लिखा है तो चलिए अब एस्से को पढ़ते है यह एस्से हमने सभी कक्षाओं के लिए लिखा है जैसे – 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, एवं 12|

Narendra Modi Essay in Hindi 100 Words

नरेंद्र मोदी का पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी है उनका का जन्म 17 सितंबर 1950 वडनगर गुजरात मे हुआ था। नरेंद्र मोदी एक भारतीय राजनीतिज्ञ है और वर्तमान मे भारत के 15 वे प्रधानमंत्री है| भारत के राष्ट्रपति ने 26 मई 2014 को नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री की शपथ दिलाई थी| नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी के एक नेता भी है और भारत के प्रधानमंत्री बनने से पहले वह गुजरात के 2001 से 2014 तक मुख्यमंत्री थे और वाराणसी मे संसद के सदस्य भी थे| नरेंद्र मोदी दामोदरदास का जन्म एक गुजराती परिवार मे हुआ था और उनके परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं थी उनके पिता दामोदरदास मूलचन्द मोदी चाये बेचने का काम करते थे और बचपन की उम्र से ही नरेंद मोदी अपने पिता के साथ काम करते थे और बाद मे उन्होंने अपना एक स्टाल ख़रीद लिया था|

Narendra Modi Essay in Hindi 200 Words

नरेंद्र मोदी के पिता का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी और माता का नाम हीराबेन मोदी है| नरेंद्र मोदी के माता और पिता ने कभी इसकी कल्पना भी नहीं की होगी की एक दिन उनका बेटा देश का प्रधानमंत्री बनेगा| नरेंद्र मोदी छोटी सी ही उम्र मे ही, वडनगर के रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने में अपने पिता की मदद करते थे और थोड़े ही समय बाद वह अपने भाई के साथ अपनी टी स्टाल मै काम करने लगे| आठ वर्ष की उम्र मे ही नरेंद्र मोदी ने अपनी पढ़ाई के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ज्वाइन कर लिया था । मोदी ने अपनी उच्चतर माध्यमिक शिक्षा 1967 मे वडनगर मे पूरी की|

Narendra Modi Essay in Hindi Language
नरेंद्र मोदी पर निबंध – Narendra Modi Essay in Hindi Language

वर्ष 1973 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में प्रचारक के रुप में अपना कैरियर शुरु करने वाले मोदी ने अपनी प्रतिभा और मेहनत के बल पर वर्ष 1987 में भारतीय जनता पार्टी BJP में जगह बना ली थी| इसके बाद मोदी ने पार्टी में अनेक जिम्मेदारियों को सफलतापूर्वक निभाते हुए निरंतर अपना कद बढ़ाया| इसी का परिणाम है कि मोदी वर्ष 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री बनने के बाद मई 2000 तक इस पद पर बने रहे| नरेंद्र मोदी के राजनीतिक कैरियर में वर्ष 2002 बहुत महत्वपूर्ण था इस वर्ष गुजरात में सांप्रदायिक दंगे भड़के उठे हुए थे जिनमें 2000 से अधिक लोग मारे गए और कई हजार व्यक्ति घायल हुए थे| इन दंगों ने मोदी की छवि को दागदार बना दिया था|

Narendra Modi Essay in Hindi 300 Words

मोदी सरकार न केवल दंगों को प्रभावी ढंग से न रुकवाने के लिए आलोचना का शिकार हुई बल्कि उस पर दंगो को भड़काने का भी आरोप लगाया गया| मोदी पर चारों ओर से मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने का दबाव बनने लगा था, तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेई ने भी मोदी को “राजधर्म” का निर्वाह करने की नसीहत दी थी, लेकिन मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री पद पर बने रहें| वर्ष 2002 के दंगों ने मोदी के व्यक्तिगत को बदल कर रख दिया| अब तक हिंदुत्ववादी छवि को लेकर आगे बढ़ने वाले मोदी ने गुजरात दंगों के बाद अपना सारा ध्यान आरती विकास पर केंद्रित कर दिया, जिसका परिणाम यह हुआ कि उनके नेतृत्व में वर्ष 2012 और 13 तक आते-आते गुजरात राज्य के स्थान पर ब्रांड बन गया और मोदी के गुजरात विकास मॉडल की गूंज हर कहीं सुनाई देने लगी| मोदी को इसी विकास पुरुष की छवि ने उन्हें वर्ष 2014 के आम चुनावों में विजय दिलाकर प्रधानमंत्री के पद तक पहुंचा दिया तेरी जैसी बिछड़ी हुई जाती का एक चाय बेचने वाला लड़का भारत का प्रधानमंत्री बने यह बेमिसाल है वह किले से प्रधानमंत्री है जो इतनी गरीबी से उठे हैं|

आजाद भारत में जन्मे पहले प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी सही मायने में ‘युवा भारत’ के ‘युवा प्रधानमंत्री’ हैं| स्कूली दिनों में नाटकों में भाग लेने के शौकीन मोदी वक्त के साथ कदम मिलाकर चलने वालों में से हैं| यही वजह है कि भारत जैसे देश में जहां तमाम राजनीतिक दल प्रौद्योगिकी से दुरी रखने मे विश्वास रखते हैं| वही मोदी कंप्यूटर एवं इंटरनेट प्रौद्योगिकी का जमकर प्रयोग करते हैं| उन्होंने चुनाव प्रचार में भी सूचना प्रौद्योगिकी का भरपूर इस्तेमाल करते हुए जनता के एक बड़े वर्ग तक अपनी पहुंच बनाई है| वह जनता से जुड़ने के लिए सोशल नेटवर्किंग का सहारा लेते हैं|

Narendra Modi Essay in Hindi 400 Words

नागरिकों से ‘लाइव चैट’ करके वाले पहले भारतीय राजनेता होने का गौरव भी मोदी को ही मिला| वह सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट “ट्विटर” पर सदैव सक्रिय रहते हैं| उनकी लोकप्रियता का अंदाजा इसी उद्देश्य से लगाया जा सकता है कि ट्विटर पर उनकी 30 मिलियन से भी अधिक फॉलोवर है और वे विश्व के ऐसे चतुर्थ राजनेता हैं जिनका ट्विटर पर सबसे अधिक प्रयोग किया जाता है|

नरेंद्र मोदी का मुख्य एजेंडा सिर्फ और सिर्फ तरक्की है| वह सबका साथ सबका विकास की विचारधारा की पक्षधर हैं| शायद यही कारण है कि भारत की जनता ने गुजरात दंगों को भुलाकर उन्हें प्रधानमंत्री के पद के रूप में इतनी बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है| हर सरकार अपने तरीके से देश के विकास के लिए कार्य करती है, किंतु नरेंद्र मोदी की सरकार से जनता की उम्मीदें बहुत ज्यादा है, क्योंकि भारत में संभवत पहली बार कोई लोकसभा चुनाव जाति-पाति तथा सांप्रदायिकता जैसे मुद्दों को छोड़कर विकास के मुद्दे पर लड़ा गया और जीता गया| इसलिए जनता अपने नए प्रधानमंत्री से यूपिये-2 के शासनकाल में आए ठहराव से मुक्ति पाने की अपेक्षा रखती है| लेस गवर्नमेंट, मोर गवर्नेंस और ‘नो रेड टेप’ ओन्ली रेड कारपेट पर जोर देने वाली मोदी को भी इसका आभास अवश्य होगा कि एक प्रधानमंत्री के रूप में उनके सामने महंगाई, बेरोजगारी, आर्थिक घाटा, भ्रष्टाचार जैसी अनेक चुनौती हैं जिनका समाधान उन्हें करना होगा|

नरेंद्र मोदी ने लंबे समय तक गुजरात के मुख्यमंत्री का पद संभाला, जिससे उन्हें सफलता भी मिली है| उन्हें गुजरात रत्न, सर्वश्रेठ मुख्यमंत्री तथा एशियन एफडीआई पर्सनालिटी ऑफ द ईयर के समान से भी नवाजा जा चुका है| उन पर प्रधानमंत्री बनने से पूर्व ही “Narendra Modi: The Man The Times” तथा “The Namo Story: A Political Life” सहित पांच पुस्तकें लिखी जा चुकी हैं| ऐसे सफल व्यक्ति की शख्सियत और इरादे जानने के लिए सारी दुनिया बेताब है| भारतीय जनता उनसे बदलाव और बेहतरीन की आशा रखती है, लेकिन इन सब के लिए हमें उन्हें पर्याप्त समय देना होगा| आखिरकार सुखद परिवर्तन रातो रात नहीं होता और अचानक होने वाले परिवर्तन लोकतंत्र की गरिमा के अनुकूल होते भी नहीं|

Narendra Modi Essay in Hindi
नरेंद्र मोदी पर निबंध – Narendra Modi Essay in Hindi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांव के समय के विकास के लिए 11 अक्टूबर 2014 को सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की| इस योजना के तहत प्रत्येक वर्ष 2019 तक तीन गांवों में बुनियादी यहां संस्थागत ढांचा विकसित करने की जिम्मेदारी उठाएं, जिनमें से एक आदर्श गांव को वर्ष 2016 तक विकसित किया जाना है| इसके बाद 5 आदर्श का चयन किया जाएगा और उनके विकास के काम के वर्ष 2024 तक का पूरा किया जाएगा|

नरेंद्र मोदी ने सितम्बर, 2014 मे स्वच्छ भारत अभियान को शुरुआत करने की घोषणा की| स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत सफाई देशभर मे प्रत्येक गाँव और शहर मे होनी चाहिए| नरेंद्र मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए राज्य सरकार के साथ मिलकर काम करने को कहा है| नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर, 2014 को दिल्ली के राजघाट मे जा कर स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की और 2019 तक भारत को स्वच्छ बनाने को कहा । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गाँवों के विकास के लिए 11 अक्टूबर, 2014 को ‘आदर्श ग्राम योजना‘ की शुरुआत की| नरेंद्र मोदी एक ऐसे जननेता है, जो लोगो के कल्याण के लिए समर्पित है| भारत को विदेश नीति पहले की सरकार से बहुत अलग है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस विदेश नीति को नई दिशा दे रहे है, और यह भारत के लिए बहुत ही गौरव की बात है|

Note :- Narendra Modi Essay in Hindi अगर आपको यह नरेंद्र मोदी पर निबंध (एस्से) पसंद आया तो आप इसे जरूर शेयर करे और अगर कुछ इसमें सही नहीं लगा आपको तो आप हमें बतायें|

यँहा संबंधित निबंध पढ़ें :-

  1. वस्तु एवं सेवा कर पर निबंध
  2. मेक इन इंडिया पर निबंध
  3. स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध
  4. बुलेट ट्रेन पर निबंध

17 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here